वो देती गयी और मैं उसकी बुर लेता गया

वो देती गयी और मैं उसकी बुर लेता गया

मेरे प्यारे सभी भाई और मेरी प्यारी सेक्सी आंटी और लडकिया | मैं सेक्स का बहुत बड़ा फैन हूँ | मुझे यहाँ स्टोरीज पढना बहुत अच्छा लगता है | मेरा नाम शशांक है और ये मेरी गर्लफ्रेंड कि स्टोरी है जिसका नाम अर्चना साहू है | वो बहुत सेक्सी और भरे बदन की लड़की है उसका फिगर 26 24 40 है उसकी गांड बहुत बड़ी है और गोल है | अच्छे अच्छे लोगो के लंड के खड़े हो जाते है जब कोई उसको चलते हुए देखता है | मैं भोपाल में रहता हूँ और मैं जिम में ट्रेनर हूँ मैं पढाई में ज्यादा अच्छा नहीं था इसलिए मैं बस ग्रेजुएशन कर के रुक गया और जिम लाइन में अपना कैरिएर बनाने कि ठान लिया | मैं आप लोगों को ज्यादा बोर न करते हुए सीधे स्टोरी पे आता हूँ |

ये बात तब कि है जब मैं जिम जाना स्टार्ट किया था और वो भी वहा आती थी उसको एक मॉडल बनना था वहा सबके पर्सनल ट्रेनर हुआ करते थे इसलिए उसे ठीक तरह से कोई व्यायाम नहीं बता पता था और वो ऐसे ही गलत गलत करती थी | मुझे इस चीज़ कि अच्छी नॉलेज थी तो मैंने उससे कहा कि मैंने भी अभी जिम स्टार्ट किया हूँ पर मुझे साड़ी एक्सरसाइज आती है | फिर मैंने उसे बताना और सही तरीके से करना चालू किया वो भी खुश थी कि चलो उसे कोई फ्री में र्त्रैनेर तो मिला | हम ऐसे ही प्रैक्टिस किया करते थे कभी वो मुझे सपोर्ट देती कभी मैं | ऐसे ही प्रकटिसे करते करते हमे तीन महीने हो गए और हमारी बीच दोस्ती हो गयी थी | एक दिन ऐसे ही मूवी देखने का हमने प्लान बनाया और हम मूवी देखने सिनेमा हाल गए | मैंने टिकेट खरीदी उसने कोक और पॉपकॉर्न खरीदे फिर हम बेठे हमने लास्ट कार्नर कि सीट ली हुई थी और वहा ज्यादा लोग नहीं थे हमारे आगे  वाली सीट पे | फिर मूवी देखने लगे ऐसे ही यहाँ वहा कि बाते भी कर रहे थे उसने तब मुझे बताया कि वो एक नार्मल घर कि लड़की है और उसे मॉडलिंग में बचपन से ही इंटरेस्ट है पर उसे उसके घर वाले मना करते थे तो वो यहाँ भोपाल आ गयी पढाई के लिए पर उसने अभी घर में नहीं बताया कि वो मॉडलिंग के लिए भी तयारी कर रही है | ऐसे ही यहाँ वहा कि बाते करते करते मूवी ख़त्म हो गयी और हम जाने को निकल रहे थे कि बहुत जोर कि बारिश होने लगी | हम आधे रास्ते तक ही पहुचे थे कि हम भीग गए थे बहुत ज्यादा | उसने वाइट कलर कि सलवार सूट पहनी थी जो स्किन टाइट थी तो जब वो भीगी तो उसके नितंभ और दूध कि ब्रा एक दम साफ़ साफ़ दिख रही थी  उसने मुझे शर्मा के देखा और मैंने नजरे फेर लिया क्युकी मै उसके प्रति गलत नहीं सोचता था | मैं तुरंत भीगते भीगते गया एक शॉप वह से एक सारी और ब्लाउज खरीद लाया और उसे ला के दिया वो बहुत खुश हो गई | उसने मुझे थंक्स कहा तो मैंने उससे कहा कि दोस्ती में नो सॉरी नो थैंक यू उसे बहुत अच्छा लगा | फिर मैंने उसे घर छोड़ा और फिर मैं भी अपने घर आ गया मुझे सर्दी हो गयी थी तो मैं कुछ दिनों से जिम नहीं जा पा रहा था उसने मुझे कॉल कि कि क्यू नहीं आ रहे हो तो मैंने उसे कहा कि मेरी तबियत ख़राब है तो वो भी जिम से जल्दी निकली और मेव्रे घर आ गयी  मैं भी यहाँ रूम ले के रहता था और काले रहता था और कोई दिक्कत नहीं थी कि कोई मुझे किसी चीज़ के  लिए टोकता | वो आई और जूस ले के आई तो मैंने उसे थैंक्स कहा तो उसने कहा कि दोस्ती में नो सॉरी नो थैंक यू फिर हम हसने लगे वो मेरे लिए सूप बनाने लगी और वो टाइट कपड़ो में बहित सुंदर लगती थी और वो बहुत गोरी भी थी | उसने मुझे सूप बना के दिया फिर मैंने पिया एक दिन कि बात है उसे अपने कोल्लागे कि फीस बी देनी थी  और घर का किराया भी पर उसके पुरे पैसे किसी ने चुरा लिए थे तो वो बहुत परेशां हो गयी | उसने मुझे बताया तो मैंने उसे कहा  कि मैं सिर्फ कॉलेज कि फीस दे सकता हूँ रेंट के पेसे देने के लिए मेरे पास भी नहीं बचेंगे तो मैंने उसे सुग्गेस्ट किया कि तुम मेरे साथ रह लो | उसे  अच्छा नहीं लगा तो मैंने उसे कहा कि भरोसा रखो कुछ नहीं होगा फिर मैंने मनाने पर वो मान गयी | उसने अपना सामान मेरे रूम में शिफ्ट कर ली और हम साथ रहने लगे | उसके बाद हम साथ में घूमते खाना बनाते और जिम जाते बस वो कॉलेज अकेले जाती थी क्युकी मुझे और भी कुछ काम रहता था इसलिए | फिर धीरे धीरे हममे नजदीकियां बढ़ने लगीं और हम एक दुसरे से प्यार करने लगे एक दिन कि बात है | जब घर में लाइट चली गयी थी और बाहर बहुत जोर की बारिश होने लगी थी तो मैं कैंडल लेने भी नहीं जा पाया अँधेरे में हम आपस में टकराते और कहीं यहाँ वहां टकराते बहुत हसी आती हमको जब किसी को लगती और वो आह करके चिल्लाता ऐसे ही चलते चलते मेरा हाथ उसकी गांड में लगा तो उसने पकड़ लिया | उसने पूछी क्या कर रहे हो तो मैंने कहा यार धोके से लग गया वो गुस्सा हो गयी थी फिर बाद में उसने मेरे लंड पे हाथ मारी तब मैंने उसका हाथ पकड़ लिया तो वो शर्म से लाल हो गयी थी | मैंने उसे अपनी तरफ खीचा और सीने से लगा लिया | उसके बड़े बड़े दूध मेरे सीने से लगे और वो बोली कि ये क्या कर रहे हो | मैंने उसे बोला कि जो हम अनजान बन कर एक दुसरे के साथ हरकते करते हैं उसे आज हम एक नाम दे ही देते हैं उसे समझते देर न लगी और उसने कहा कि मैं सेक्स नहीं करुँगी | मैंने आज तक सेक्स नहीं किया है | तो मैंने उसे कहा कि सेक्स तो मैंने भी नही किया है तो क्यू न आज कर के देखते है पहले तो वो मना कर रही थी | फिर बाद में उसने हा कर दी  मैंने उसे अपने तरफ फिर से खीचा और अपने होंठ उसके होंठ पे रख दिए मैं उसे जोर जोर से किस करने लगा | उसकी जीभ  से जीभ लड़ाने लगा | अब वो भी गरम होने लगी तबी और उसने भी मेरा साथ देना चालू कर दिया | अब हम एक दुसरे के साथ से अच्छे से किस कर रहे थे और मैं उसके दूध भी दबाते जा रहा था फिर मैं उसके पीछे आ गया और उसकी गर्दन पे किस करने लगा और वो सिस्कारिया ले रही थी | मैं सामने हाथ करके उसके दूध मसल रहा था और उसकी गर्दन भी चाटते जा रहा था उसे बहुत अच्छा लग रहा था उसे मेरा एसा करना फिर मैं उसके सामने आ के उसका टॉप उतारा और फिर उसके बाद उसकी ब्रा | जेसे ही ब्रा उतारा लाइट आ गयी उसके दूध बहुत ही गोरे  दिख रहे थे क्या कमाल के दूध थे उसके मजा आ गया था | फिर मैं उसके पिंक निप्पल चूसने लगा और उसके दूध दबाते जा रहा था | उसके मुह से अआहा आहा अहहः आहा अ अह कि आवाज़े आ रही थी जो मुझमे जोश पैदा कर रही थी | फिर मैं उसकी कमर चाटते हुए उसकी स्कर्ट उतारा और फिर उसकी पेंटी भी उसे शर्म नहीं आ रही थी | अब बस वो ऊन्मून्ह्ह अआहा ऊऊन्ह्ह कर रही थी | मैंने ज्यादा देर नहीं कि और उसे लेटा कि उसकी टांग चौड़ी किया तो देखा कि उसकी छूट भी गुलाबी थी | मेरे मुंह में तो पानी आ गया था | मैं तुरंत ही अपनी जीभ डाल के उसकी छूट चाटने लगा और वो जोर जोर से आः आः अहाहाहा उऊंज्नंह उऊंन्ह्ह क्या कर रहे हो | शशांक मार डालोगे क्या मैंने झूठ कहते हुये कहा कि नहीं जान तेरी चूत पे बहुत प्यार आ रहा है फिर मैं उसकी छूट करीब 20 मिनट तक चाटा | उसी टाइम वो एक बार झड चुकी थी फिर मैं उसके सामने नंगा हुआ तो मेरा लंड देख के डर गई थी | क्युकी मेरा लंड 8 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है उसने कहां कि तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है | मैं इसे अन्दर नहीं ले पाउंगी  तो मैंने उसे कहा कि कोई दिक्कत नहीं होगी आराम से अन्दर चला जायगा | मैंने उसकी छूट में सरसों का आयल लगाया और अपने लंड में भी आयल लगाया | मैंने उसकी टाँगे पकड़ी और धीरे से अपना लंड उसकी छूट में डाला वो चीख उठी और मना करने लगी कि अआः अआहा नही अब मैं झेल पाऊँगी तुम्हारा लंड | मैंने जोर कर अपना लंड डाला फिर धीरे धीरे उसे भी मजा आने लगा और बहुत देर तक हमने चुदाई की | अब हम रोज चुदाई करते हैं उसे मेरा लंड ओरे ममुझे उसकी चूत बहुत पसंद है | हमने शादी भी कर ली है और अच्छे से रह रहे है | फ्रेंड्स आपको सभी को मेरी स्टोरी कैसी लगी बताना जरुर मैं आगे भी अपनी स्टोरीज भेजता रहूँगा उम्मीद करता हूँ कि आप सभी लोगो को मेरी ये स्टोरी बोर नही कि होगी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *