लाल लाल लोले चूत को खोले

लाल लाल लोले चूत को खोले

हेल्लो मेरे दोस्तों कैसे हो आप सब और कैसी है आपकी छोटी सी नुन्नु | सब मस्त ही होगा और चुदाई भी चल ही रही होगी और बड़े लंड वाले मादरचोदों को मेरे लंड की तरफ से नमस्कार | तो दोस्तों मेरा नाम है हरी और मैं उदय नगर में रहता हूँ मेरे घर में मेरे माँ बाप और मेरा एक बड़ा भाई रहता है जो काम के सिलसिले में अक्सर बाहर रहता है | मैं एक बहुत ही मस्त लड़का हूँ क्यूंकि मैं सबसे हंसी मज़ाक करता रहता हूँ और इसलिए मेरे मोहल्ले में आंटी लोग और लडकियां मेरी दीवानी हैं | मैंने कई आंटी और लड़कियों को चोदा है पर इस बार थोडा मुश्किल हो रहा है क्यूंकि मेरा भाई अभी घर पर ही है और वो कहीं बाहर जा ही नहीं रहा है | मैंने तो कई बार सोचा कि उसको भी चुदाई के मज़े दिलवा दूँ पर साला अपनी बीवी से बड़ा प्यार करता है | खेर इसमें उसकी कोई गलती नहीं है क्यूंकि भाभी बहुत सुन्दर और प्यारी हैं | उन्होंने अपने स्नेह और लगन से पूरा घर एक साथ बाँध रखा है और इस चीज़ के लिए मैं उनकी दिल से इज्ज़त करता हूँ और मोहल्ले में कोई उनकी तरफ देखे रतो मैं उसको अच्छे से झाड़ देता हूँ |

दोस्तों आज मैं आपके सामने इसलिए हूँ क्यूंकि मुझे एक बहुत पुरानी बात याद आ गयी और मैं उसको आपसे बाँटना चाहता हूँ | मैं चुदाई तबसे करता रहा हूँ जबसे मेरा लंड खड़ा होना शुरू हुआ है | और मैंने पहली बार अपने बगल वाली आंटी और उसकी माल लड़की को चोदा था | पहले माँ चुदी फिर उसके बाद उसकी लड़की भी चुद गयी | मुझे अच्छे से याद है मैं उस समय कॉलेज के पेपर दे रहा था और मुझे चुदाई की चुल्ल काट रही थी | बाजू वाली आंटी भी मेरी ही तरह मस्त और बिंदास स्वाभाव की थी इसलिए मैं उनसे काफी गहरी बात और मस्ती कर लेता था | वो छत पे कपडे सुखाने के लिए आती तो मैं उनसे कहता अरे आंटी आज अपनी पिंक ब्रा को तो दिखा दो | वो मुझे बेशरम कहती और बोलती आज मैंने कलि वाली पहनी है | मैं भी कह देता अरे सोनिये ज़रा हमको भी दीदार करवा दो उसका तो वो अपना पल्लू हटा के थोडा सा दिखा देती | मैं कहता अरे आंटी मन कर रहा है पकड़ के चूस लूँ अन्दर के दूध को | वो मुझसे कहती हट पागल लड़के मेरे दूध पिएगा तो मोटा हो जाएगा |

ठण्ड का समय था शायद दिसम्बर था और आंटी के बड़े लड़के की शादी थी | सारा काम मैं उसकी बेटी रीना और आंटी संभाल रहे थे क्यूंकि उनके पति नहीं थे | मैंने आंटी की हर संभव मदद की और रात में थक के हम दोनों ऊपर वाले कमरे में लेट गए | मैं उठा और आंटी के पैर दबाने लगा और कहने लगा क्यूँ आइटम मज़ा आ रहा है न | उसने कहा हाँ रे हरी और दादा दे थोडा | मैंने आंटी की साड़ी थोड़ी सी उठायी और उनकी गूरी जांघो पे हाथ फेरके दबाने लगा | उन्होंने कहा तुझे मैंने ऊँगली पकड़ाई थी और तू तो सर पे चड़ने लगा | मैंने कहा तुझ जैसी माल को कौन पागल छोड़ेगा | वो आराम से लेट गयी और मैं उसकी साड़ी उठाता गया और शायद उसे भी मज़ा आ रहा था | थोड़ी देर बाद मैं उसकी काले रंग की पेंटी पे हाथ फेरने लगा और उसकी चूत गीली होने लगी | वो हलके हलके सिस्कारियां भरने लगी और उसकी चूत को मैं पेंटी के ऊपर से ही रगड़ने लगा | उसके बाद उसने मुझसे कहा और अच्छे से करना मुझे बहुत अच्छा लग रहा है | मैंने उसकी पेंटी उतार दी और उसकी साड़ी भी और वो बस ब्लाउज में मेरे सामने थी |

मैं उसकी चूत को रगड़ता गया और वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी | मैंने उसकी चूत को १५ मिनट तक रगडा और उसने एक बार अपना माल गिरा दिया | फिर मैंने अपना मुह उसके ब्लाउज के ऊपर लगाया और उसके ब्लाउज को उतार के उसके ब्रा को चूमने लगा | हलके से मैंने उसके ब्रा को उतारा और उसके दूध चूसने लगा | थोड़ी देर बाद वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी | अब मैं एक हाथ से उसके दूध दबा रहा था और एक हाथ से चूत में ऊँगली कर रहा था | वो भी मज़े लेके मुझसे ये सब करवा रही थी और आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी | करीब आधे घंटे तक मैंने उसके जिस्म के साथ खेला और अब मेरा लंड भी तैयार था उसकी चूत और गांड फाड़ने के लिए | मैंने उससे कहा आंटी चलो अब मेरा लंड तुम्हरे मुह में जाने के लिए तैयार है | वो उती और अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ के हिलाने लगी |

जैसे ही उसने मेरा लंड चूसना शुरू किया मैं आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगा क्यूंकि मुझे मस्त लग रहा था | जब मेरे लंड से भी माल निकल गया तब मुझे थोड़ी रहत मिली और मैंने आंटी से कहा चूसना बंद मत करना | वो मेरा लंड चूसती रही और मैं आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करता रहा | मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और मैंने उसकी चूत में तुरंत ही पेल दिया | मेरा लंड बड़ा था इसलिए आंटी को थोड़ी दिक्कत हुयी पर पांच मिनट बाद वो मस्त हो गयी और आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करे हुए मस्ती में मुझसे चुदवाने लगी | वो कहने लगी बुध दे मेरे बरसों की प्यास को | मैं और जोर जोर से उनकी चूत चोदने लगा और वो सिस्कारियां लेने लगीं | फिर थोड़ी देर बाद उनकी चूत से मूत निकल आया और उसके ५ मिनट बाद वो झड़ गयी | पर मुझसे शांति नहीं मिली थी इसलिए मैंने उनको घोड़ी बना दिया और पहले तो उनकी चूत को चोदा और इस बार वो रोने लगी और मैं आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगा | फिर मैंने अपना लंड उनकी गांड में डाल दिया और चोदने लगा | उनकी गांड का छेद को इस कदर चोदा कि उनकी गांड से खून निकल आया और वो भी आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करते हुए चुदती रही | थोड़ी देर बाद मैंने अपना सारा माल उनकी चूत के ऊपर गिरा दिया और वो भी आराम से लेट गयी और कहने लगी चोद लिया अब तो खुश है न | मैंने कहा हाँ पर पता नहीं कहाँ से उसकी लड़की ने मुझे देख लिया था और जैसे ही उसकी मान गयी वो तुरंत आई और मेरा लंड चूसना चालु कर दिया | फिर क्या था मैंने उसकी चूत पे भी लैंड टिकाया और एक झटके में उसकी चूत को खोल दिया | कुंवारी चूत चोदने में बड़ा मज़ा आया पर साली आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः बड़ा कर रही थी | और मैंने उस दिन उसकी दो बार गांड भी मारी थी |

तो दोस्तों अब मैं अपनी कहानी पे विराम लगता हूँ |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *